शनिवार, दिसंबर 12, 2009

'वागर्थ' के सितम्‍बर 2009 अंक में प्रकाशित कुछ प्रेमकविताएं

पढ़ने के लिए कृपया कविता पर क्लिक करें...

6 टिप्‍पणियां:

  1. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी टिप्पणियां दें

    कृपया वर्ड-वेरिफिकेशन हटा लीजिये
    वर्ड वेरीफिकेशन हटाने के लिए:
    डैशबोर्ड>सेटिंग्स>कमेन्टस>Show word verification for comments?>
    इसमें ’नो’ का विकल्प चुन लें..बस हो गया..कितना सरल है न हटाना
    और उतना ही मुश्किल-इसे भरना!! यकीन मानिये

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर रचना है। ब्लाग जगत में द्वीपांतर परिवार आपका स्वागत करता है।

    pls visit...
    http://dweepanter.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  3. गजब की कविता लिखी है ,प्रदीप !
    दृष्टि को एक नया आयाम देते हुए आपने ताजे प्रेम को परिभाषित किया है
    साधुवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  4. दोनों कवितायें मासूम और सघन

    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं